फिर शर्मसार हुआ भगवा झंडा- राजनीति की भेंट चढ़े बजरंग दल के सदस्य

33
Tiktok का एक मात्र विकल App "99likes" डाउनलोड करे,जिसे आप वीडियो भी बना सकते है रे
Download 99likes

बिहार, झारखण्ड और अब फिर बिहार से खबर मिली है कि एक दुकान पर भगवा झंडा लगा होने कारण पुलिस प्रशासन ने उसके खिलाफ कार्यवाही कर दी है | ज्ञात हो कि बिहार में एक दलित सब्जी वाले ने भी इस रंग का झंडा लगाया था और उसे प्रताड़ित होना पड़ा था | ऐसे ही झारखण्ड में फल ठेले पर हिन्दू नाम का बोर्ड लगा लिया तो उसपर कार्यवाही हो गई | लेकिन इस बार जिन पर कार्यवाही हुई है वह लोग बजरंग दल से जुड़े हुए हैं | बताया जा रहा इन दोनों बजरंग दल के सदस्यों ने लोगों से ज़रूरी सामान की खरीदी हिन्दू दुकानों से करने का आग्रह किया था |

राजीव रंजन (विकास प्रखंड अधिकारी, बिहारशरीफ) ने इसके खिलाफ कार्यवाही करने के लिए शिकायत दर्ज करवाई थी | इस मामले की एफ.आई.आर कॉपी भी शेयर हो चुकी है जिसे ट्विटर पर देखा जा सकता है | इस कॉपी के अनुसार कुंदन और धीरज कुमार दोनों ही बजरंग दल (नालंदा खंड) के सदस्य हैं इन दोनों और पांच अन्य लोगो के विरुद्ध 149, 188, 147 व अन्य धाराएँ लगर केस पंजीकृत किया गया है |

रंजीत (SHO) से इसके बारे में पूछा गया लेकिन उन्होंने कोई भी उत्तर देने से इनकार किया | उन्होंने गूगल पर देखलो कहकर बात को टाल दिया | उन्होंने कहा हम जानना चाहते थे 295A किस लिए है क्या इसे धर्म को ठेस पहुंचाने पर लगाया जाता है | लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि इस जगह पर किसी भी धर्म को ठेस पहुंचाने का काम नहीं किया गया है |

अगर किसी दुकान पर हिन्दू लिखना गलत है तो फिर उन सभी दुकानों के बोर्ड उखाड़ फेकों जहाँ दूसरे धर्म के निशान या नाम है | हिंदुस्तान में हिन्दू को इसकी आजादी नहीं है तो दूसरे धर्म को भी नहीं मिलनी चाहिए | विनोद बंसल (प्रवक्ता, विहिप) ने बयान दिया है कि इसके खिलाफ मुद्दा उठेगा ज़रूर और उसका स्तर भी बड़ा होगा |

आगे उन्होंने कहा भगवा लगाना, हिन्दुतत्व दिखाना या किसी हिन्दू धर्म संगठन से जुड़ा होना गैरकानूनी है तो फिर उन सब संस्थानों को बंद कर दो जहाँ से जिहाद की बदबू आ रही है | सेक्यूलरिज्म मतलब हिन्दू पर हमला करना और बिहार, झारखण्ड पाकिस्तान के हिस्से हैं | यह कहते हुए वह सरकार पर भी भड़कते हुए बोले क्या इन दोनों राज्यों की सरकार यह पक्का कर सकेगी कि विक्रेताओं की लम्बी दाढ़ी नही होगी और वह गोल टोपी नहीं पहनेंगे ? इसके अलावा क्या वह सांप्रदायिक अलफ़ाज़ जैसे खान, इस्लाम का इस्तेमाल भी नहीं करेंगे |

बता दें कि जब झारखण्ड में फल बेचने वालों ने हिन्दू लिखा था तब बड़ा हंगामा हुआ था और पुलिस ने विक्रेताओं को गिरफ्त में लिया था | परंतु वहां के पूर्व CM रघुवर दास उनसे मिले और उन्हें आश्वस्त किया कि उनके विरोध में किसी भी प्रकार कार्यवाही नहीं होगी |

हमरा सहयोग करे, कुछ दान करे , ताकी हम सचाई आपके सामने लाते रहे , आप हमरी न्यूज़ शेयर करके भी हमरा सहयोग कर सकते