Home Entertainment मुंबई पुलिस का झूठ आया सामने – रिया बांद्रा के DCP के संपर्क में थी – Call रिकॉर्ड से हुआ खुलासा !

मुंबई पुलिस का झूठ आया सामने – रिया बांद्रा के DCP के संपर्क में थी – Call रिकॉर्ड से हुआ खुलासा !

0
मुंबई पुलिस का झूठ आया सामने – रिया बांद्रा के DCP के संपर्क में थी – Call रिकॉर्ड से हुआ खुलासा !

सुशांत सिंह की मृत्यु या यूँ कहे की मर्डर का सच अब तक सामने नहीं आया है।  दिन-प्रतिदिन इस केस में नए twists एंड turns आते ही जा रहे है। कॉल रिकॉर्ड से मुंबई पुलिस का झूठा चहेरा आया सामने। बांद्रा के DCP अभिषेक त्रिमुखे के साथ कई बार रिया की बात हुई – ऐसा कॉल रिकॉर्ड से पता चला है। इतना ही नहीं किन्तु, CBI के अनुसार सुशांत की डायरी में से कुछ कागज़ गायब है। रिया और डीसीपी के बिच चार बार फोन पर और एक बार मैसेज पर बात हुई थी। यह बातचीत 14 जून यानि सुशांत के मरने के बाद से होने लगी। 20 जून से 28 जुलाई के बिच रिया और पुलिस की बातचीत हुई थी। 

इस विषय पर पुलिस का कहना है की – 

यह फ़ोन कॉल ऑफिसियल वजह से थे। रिया को बांद्रा एवं सांताक्रूज पुलिस थाने में बुलाने के लिए किया था। 

रिया मुंबई पुलिस के संपर्क में थी यह तो सिद्ध हो गया।  किन्तु, अब सवाल यह उठता है की आखिर क्या बातचीत हुई होगी उन दोनों के बिच ? यूँ तो इसका जवाब रिया या डीसीपी ही दे सकते है ? किन्तु, क्या मुंबई पुलिस सच बोल रही है या सत्यमेव जयते सिम्पथी लेने वाली महिला और अन्य लोगो के साथ मिली हुई है?

सूत्रों के मुताबिक – कुछ समय पहले जब रिया फरार थी तब मुंबई पुलिस ने कहा था की हमें पता ही नहीं है रिया कहाँ है। 

सुशांत के मर्डर को लेकर पूछताछ –

रिया चक्रवर्ती पर सुशांत के मर्डर का शक है इसलिए उन्हें  शुक्रवार के दिन पूछताछ के लिए बुलाया गया था। जहाँ वह अपने भाई के साथ पहुंची थी। यूँ तो रिया से पूछताछ चल रही है। 

कहा जा रहा है की –

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सुशांत सिंह राजपूत के दोस्त सिद्धार्थ पिठानी और श्रुति मोदी, अभिनेता के पूर्व बिज़नेस मैनेजर को नोटिस भेजा है। सिद्धार्थ पिठानी को 8 अगस्त को एजेंसी के सामने पेश होने के लिए कहा गया है। महाराष्ट्र सरकार पर तीखा प्रहार करते हुए बिहार के IPS तिवारी ने कहा कि, ‘मैं इस पूरे मामले पर कहना चाहूँगा कि मुझे क्वारंटाइन नहीं किया गया था.. बल्कि जांच को क्वारंटाइन किया गया था। सुनने में आया था की मुंबई पुलिस बिहार पुलिस के काम में अर्चन पैदा कर रही थी। 

अब सवाल यह उठता है की क्या वाकई में मुंबई पुलिस, नेता, और कुछ सेलिब्रिटीज सुशांत के खिलाफ है और उसे जस्टिस दिलवाना नहीं चाहते ? या फिर यह सब ही सुशांत के मर्डर और दिशा के रेप के ज़िम्मेदार है ? सीबीआई के अनुसार सुशांत की डायरी में से जो कागज़ गायब है, वह भी कहीं इन्ही में से किसी की कोई साज़िश नहीं ? पुलिस जनता के रक्षा के लिए होती है और अब वह खुद ही अपराधी के साथ मिली हुई है ? क्या पुलिस जनता को गुमराह कर रही है ?