महाराष्ट्र में फांसी के 2 केस – मुंबई में माँ के मोबाइल छीनने से और पुणे में पिता की डाँट से नाराज़ हो कर – बच्चो ने की आत्महत्या।

51
Tiktok का एक मात्र विकल App "99likes" डाउनलोड करे,जिसे आप वीडियो भी बना सकते है रे
Download 99likes

महाराष्ट्र (Maharashtra) – महाराष्ट्र में बच्चो की आत्महत्याा के दो केस सामने आए । माता-पिता के डाँट  से बच्चो ने की खुद की कहानी ख़त्म।  

पिता ने पुणे में मटन गिराने पर 10 साल के बच्चे को डाटा था जिससे नाराज़ हो कर बच्चे ने की आत्महत्या।  

मुंबई में 12 साल के लड़के ने की खुद की कहानी ख़त्म माँ ने फोन में गेम खेलने से रोका था।  

पुणे  में 10 साल का बच्चा बाथरूम में जाकर फंदे पर झूल गया। 

श्रीकुंज हाऊसिंग सोसायटी, मोरे बस्ती, चिखली इलाके के बच्चे ने मंगलवार को पिता की डाँट के कारण बाथरुम में खिड़की की ग्रिल से फंदा बांधकर कर किया खुदका जीवन ख़त्म। यह चौथी कक्षा में पढता बालक का नाम वेंकटेश लक्ष्मण पुरी है, जिससे घर में पढ़ा मटन गिर गया था। इसलिए पिता ने उसे डाँट लगाई थी। माँ घरो में काम करने जाती है, और पिता ऑटो चलाते है। जब बच्चे ने नाराज़ हो कर यह कदम उठाया तब माता-पिता घर में मौजूद नहीं थे। इस मामले का खुलासा माता-पिता के घर पर आने के बाद हुआ।  

मुंबई के 12 साल के बच्चे ने जिस दुपट्टे से माँ ने  उसे सदैव धुप-छांव से बचाया उसी दुपट्टे से लगाई फांसी –

मोहमद अली खान उस बच्चे का नाम था। जो शिवाजीनगर मुंबई में रहता था।  सभी बच्चो जैसे उस बच्चे को भी फोन में गेम खेलना पसंद था। इसी आदत के कारण माँ डाँटती रहती थी। मंगलवार को भी अधिक समय मोबीलेफोन इस्तेमाल करने के कारण माँ ने फ़ोन छीनना था और पढ़ने को कहा था। इसी बात से नाराज़ हो कर बच्चे ने गलत कदम उठा लिया। घर की तीसरी मंज़िल के कमरे में खुद को बंद कर के माँ के दुपट्टे से लगाई फांसी।  

दोनों मामलों में IDR दर्ज!

मुंबई और पुणे दोनों मामलों में एक्सीडेंटल डेथ रिपोर्ट (IDR) दर्ज की है।  मुंबई के मामले में फिलहाल तो पुलिस ने इतना साफ़ किया है, की माता-पिता की कोई गलती कहीं भी नज़र नहीं आ रही है।  

परन्तु, अब सवाल यह उठता है की क्या माता-पिता बच्चे की गलती को गुनाह बनने से रोकने के लिए डाँट  नहीं सकते? क्या माता-पिता का बच्चों पर कोई अधिकार नहीं है? याँ फिर बच्चे खुद ही को खुदका माता-पिता समझ चुके है और किसी की सुनना नहीं चाहते? याँ फिर है, यह आज के माहौल का असर?

हमरा सहयोग करे, कुछ दान करे , ताकी हम सचाई आपके सामने लाते रहे , आप हमरी न्यूज़ शेयर करके भी हमरा सहयोग कर सकते