University के Professor ने अपने साथ विदेशी जमातियों को छुपाया- हुआ गिरफ्तार

127

प्रशासन और उत्तर प्रदेश सरकार की चेतावनी के बाद भी तबलीगी जमात से जुड़े लोग पकड़ में आ रहे हैं | प्रयागराज में एक ताज़ी घटना सामने आई है | 20 अप्रैल की रात में जब पुलिस ने छापेमार कार्यवाही की तब तीस लोगों को गिरफ्त में लिया गया | गिरफ्त में आये लोगों में से एक इलाहाबाद यूनिवर्सिटी का प्रोफेसर है एवं 19 जमाती हैं व अन्य 16 लोग विदेशी हैं ( इंडोनेशिया के 7 और थाईलैंड के 9 ) |

कैसे चला पता ?

मीडिया के मुताबिक गुप्त सूत्रों के द्वारा यह सूचना प्राप्त हुई थी कि प्रोफेसर शाहिद जो इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में राजीनीतिक विज्ञान के विभाग में कार्यरत है वह दिल्ली मरकज में होने वाली तबलीगी जमात में मौजूद था और वह रसूलाबाद की शिवकुटी में रहता है | वह गुप्त रूप से शहर में वापस आया बिना किसी को जानकारी देते हुए |

सूचना के प्राप्त होते ही पुलिस ने कठोर कार्यवाही की और प्रोफेसर को गिरफ्त में ले लिया | इसके बाद प्रोफेसर शाहिद के पूरे परिवार क्वारंटाइन के लिए भेज दिया गया | आगे और जांच करने के बाद बाकी 19 जमातियों को भी पकड़ लिया गया | पुलिस के अनुसार इन 19 में से 16 थाईलैंड व इंडोनेशिया के निवासी हैं |

पुलिस द्वारा जमातियों की जानकारी-

सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज (एसएसपी) ने बताया कि पकड़े गए जमातियों में से थाईलैंड और इंडोनेशिया के अलावा पश्चिम बंगाल से एक एवं केरल से भी एक है | हेरा मस्जिद (करेली) एवं अब्दुल्ला मस्जिद (शाहगंज) से भी कुछ लोगों को गिरफ्त में लेकर क्वारंटाइन के लिए भेज दिया गया है एवं अतरिक्त पुलिस बल की तैनाती भी की गयी है |

इसके पूर्व ब्रजेश पाठक (मंत्री, उत्तर प्रदेश सरकार) ने बयान दिया था कि जो भी कोरोना को छुपाने अथवा फ़ैलाने की कोशिश करेगा उसपर अटेम्पट टू मर्डर का केस करना चाहिए | इसके बाद उ.प्र. सरकार ने पुलिस को सख्त निर्देश दिए कि सभी जमातियों को 2 दिन में पकड़ लिया जाए अन्यथा थानेदारों पर कठोर कार्यवाही की जा सकती है |

हमरा सहयोग करे, कुछ दान करे , ताकी हम सचाई आपके सामने लाते रहे , आप हमरी न्यूज़ शेयर करके भी हमरा सहयोग कर सकते