बच्चों के तनाव (TENSION) को उन्ही के साथ मिलकर दूर करें

24
Tiktok का एक मात्र विकल App "99likes" डाउनलोड करे,जिसे आप वीडियो भी बना सकते है रे
Download 99likes

समय ही कुछ ऐसा चल रहा है कि लोग घरो के अन्दर बैठे हैं और सामाजिक दूरियां भी बढ़ चुकी हैं | विशेषज्ञों की मानें तो बड़े ही नही बल्कि बच्चें भी घबराहट का सामना कर रहे हैं | बच्चों में तनाव एवं भावनात्मक कमज़ोरी आ रही है जिससे उनका व्यवहार परिवर्तित हो रहा है | वह अपने परिजनों को भी खुलकर कुछ नही बता पाते और इस वजह से उनकी मानसिक सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ता है | परिजनों को चाहिए कि वह अपने बच्चों से बात करें और सुरक्षित रखें | चिकित्सकों के अनुसार इससे उनके तनाव में कमी आयेगी | ग्लोबल रिपोर्ट जो न्यूयॉर्क टाइम्स के द्वारा प्रस्तुत की गई है उसके अनुसार बच्चों को व्यस्त रखने के लिए रूटीन बनायें क्योंकि इससे उन्हें सकारात्मक रहने की ऊर्जा मिलेगी |

जानिए बच्चों में तनाव से जुड़े लक्षण एवं उसका समाधान :

चिढ़चिढ़ापन या अनियमित  व्यवहार-

चिकित्सकों की मानें तो चिढ़चिढ़ापन एक मुख्य लक्षण है जिससे तनाव का पता लगाया जा सकता है | ऐसे समय में बच्चे का व्यवहार सामान्य दिनों की अपेक्षा अलग होता है | तनाव के दौरान शारीर में रसायन एवं होरमोंस का संतुलन बिगड़ जाता है और इसका असर ऊपरी तौर पर देखा जाता है|

चिकित्सकों के अनुसार बच्चों को अधिक से अधिक समय दें और उनका हौसला बढाएं जिससे वे सावधान व सुरक्षित रहें उनका रूटीन ऐसा तैयार करें जिसमे कुछ खेल, पढ़ाई एवं अन्य कलात्मक पहलु हों | इससे वे घर के अन्दर भी व्यस्त रहेंगे |

अक्सर उठना व नींद की कमी-

अगर ऐसा लगे कि बच्चा रात में ठीक से सो नहीं रहा है या फिर अक्सर उसकी नींद खुल जाती है तो इसका मतलब वह तनाव से घिरा हुआ है | ऐसा खासकर तब समझ में आता है जब बच्चा ऊपर से स्वस्थ हो पर फिर भी रात में नींद नहीं ले पा रहा हो |

इसका एक सरल उपाय है कि शाम के वक़्त बच्चे को स्नान करवाएं इससे दिमाग शांत होता है और नींद अच्छी आती है | इसके अलावा रचनात्मत क्रिया का सहारा भी ले सकते हैं और खासकर शाम के समय बच्चे को टहलाने के लिए छत या गार्डन ले जाएँ |

पेट दर्द और तनाव का संबंध-

बच्चों को पेट में दर्द होना कोई नयी बात नहीं है | पर 4 साल व उससे ऊपर की उम्र वाले बच्चों पर किये गए एक रिसर्च से ये बात सामने आई कि 90% बच्चे बिलकुल सामान्य थे एवं पाचन क्रिया भी ठीक थी पर उनमे तनाव ग्रस्त होने के लक्षण थे | इसलिए पेट दर्द और तनाव का संबंध है |

पीडियाट्रिक एक्सपर्ट्स बताते हैं अगर ऐसी स्थिति उत्पन्न हो जाए तब फाइबर से भरपूर भोजन देना चाहिए इससे पेट साफ़ होता है एवं कब्ज़ भी कम होती है |

हड्डी या मसल पेन-

पेट दर्द की तरह अगर बच्चा बताये कि अचानक हड्डी या किसी मसल में दर्द उत्पन्न हो जाता है तो ये चिंता की बात है | जैसे ही पता चले तो उसके खेल कूद पर नज़र डालें अगर सब नार्मल है तो ये तनाव की वजह से उत्पन्न हो रहा है |

दवाओं से इसका उपचार संभव है पर इसके लिए आपको भी बच्चे के साथ खेल कूद में शामिल होकर उसके प्रदर्शन की तारीफ करनी होगी जिससे उसका ध्यान दर्द पर ना जाये | ऐसा करने से थोड़ी रहत मिलेगी |

हमरा सहयोग करे, कुछ दान करे , ताकी हम सचाई आपके सामने लाते रहे , आप हमरी न्यूज़ शेयर करके भी हमरा सहयोग कर सकते