Delhi दंगों के लिए Tahir Husaain के खिलाफ Chargesheet को किया गया दायर

103

दिल्ली, यहाँ पर जो हिन्दू विरोधी दंगे भड़के थे इसके खिलाफ पुलिस द्वारा चार्ज शीट को दायर कर दिया गया है | इसमें ताहिर हुसैन (निलंबित पार्षद, आप) मुख्य आरोपी हैं | फ़रवरी में दिल्ली के उत्तर पूर्वी इलाकों में भड़के दंगों में ताहिर द्वारा काफी पैसा खर्चा गया है | इसके अलावा उसने उमर खालिद (छात्र नेता, JNU) एवं खालिद सैफी से भी सपर्क साध रखा था |

खालिद सैफी वह आरोपी है जो खुरेजी खास (शाहदरा) के दंगों से जुड़ा है | SIT (क्राइम ब्रांच) द्वारा यह सारे खुलासे कड़कड़डूमा की कोर्ट में किये गए | इस पूरे मामले में ताहिर का भाई शाह आलम और इसके अलावा 15 और लोग शामिल हैं जिनको आरोपी बनाया गया है | दंगे होने से ठीक पहले ताहिर द्वारा एक लाइसेंसी बन्दूक ली गयी और इसका प्रयोग भी उसने किया | 75 कारतूस के बारे में जब पूछा गया तब वह कुछ नहीं बता पाया | इसके अलावा जनवरी माह में 1.1 करोड़ रुपाई किसी फर्जी कंपनी में भेजे गए और बाद में उसके द्वारा कैश वापस लिया गया |

एसपी फाइनैंशल सर्विस, इसेंस सेलकॉम, यूद्धवी इंपेक्स ऐसी ही अन्य शेल कम्पनीज थीं जहाँ पैसों को ट्रान्सफर किया गया था | ताहिर हुसैन ने घर में काफी सारे कैमरे लगवा रखे हैं परंतु किसी में भी 23 फ़रवरी और 28 फ़रवरी के बीच की कोई भी फुटेज नहीं है | इसके अलावा उसके पास इस बात का भी कोई उत्तर नहीं है कि खजुरी खास के अंतर्गत आने वाले थाने से बन्दूक क्यों निकाली वो भी दंगे भड़कने के ठीक पहले |

ऐसे दस केस हैं जिनमे ताहिर को आरोपी बताया गया है | ताहिर के नाम पर 100 कारतूस निकले और 16 कहाँ गए और क्या हुआ इसके बारे में कुछ पता नही है | मोबाइल ट्रेसिंग से जानकारी मिली कि वह सैफी एवं उमर खालिद से भी मिल चुका है | इसके अलावा पूरे दंगों के दौरान सिर्फ ताहिर का मकान सुरक्षित बच गया जो साबित करता है कि उसने इन दंगों में एक एहम भूमिका निभाई है | वह कस्टडी से भागा भी था और दस दिनों तक फरार रहने के बाद मीडिया के सामने आ गया | उसकी छत पर पेट्रोल बम, पत्थर गुलेल और भी कई प्रकार के हथियार रखे थे | यह तो साफ़ है कि दंगे अचानक नहीं भड़के और इसके पीछे की साजिश भी पता चलती जा रही है | ताहिर की बन्दूक जब्त हो चुकी है और उसपर UPA का मामला चल रहा है | अंकित शर्मा (IB) के भी मर्डर का चार्ज उस पर ही है |


ताहिर द्वारा खालिद को बताया गया था कि जैसे ही डोनाल्ड ट्रम्प (राष्ट्रपति, अमेरिका) का भारत आगमन होगा वैसे ही कुछ बड़ा होगा | उसने खालिद के साथ साथ उसके समर्थकों को भी तैयार रहने का आदेश दिया था | CAA विरोधी आन्दोलन में धन वितरित किया इसके अलावा रियाफत जो गिरफ्त में है उसने भी यह बताया कि महिलाओं को भड़काने का काम सौंपा गया था |

पिंजरा तोड़ जैसे अन्य संगठनों से आने वालीं नताशा, रुम्शा एवं देवांगना जैसी महिलाएं भी इसमें शामिल थीं | रियाफत द्वारा भी भीड़ को उकसाया गया था जिससे गोलियां चलने तक की नौबत आ गयी थी | कुछ व्हाट्सऐप सन्देश भी मिले जो आरोपियों के मोबाइल में थे और इनको भी चार्ज शीट में शामिल किया गया है | सन्देश नीचे दिए गए हैं :

  • सब अपने घरों खौलता पानी तैयार रखना
  • सीढ़ियों को चिकना कर दो
  • लाल मिर्च किसी भी रूप में तैयार होनी चाहिए
  • लोहे के दरवाज़े लगाओ और उसमे करंट दौड़ा दो
  • तेज़ाब, पेट्रोल एवं ईंट पत्थर घरों के छत पर होने चाहिए
  • एक बिल्डिंग से दूसरी पर जाने के रास्ते बनाओ और सारे मर्द किसी भी हालत में बिल्डिंग खाली ना करें क्योंकि औरतों की सुरक्षा भी ज़रूरी है |

चश्मदीद लोगों के अनुसार ताहिर दंगे करवा रहा था और इसका विडियो भी है जहाँ उसने पेट्रोल बम फेका था | परंतु उसने कहा वह खुद दंगे में फस गया था और पुलिस को फोने लगाकर मदद के लिए बुला रहा था | इसका खुलासा कुछ बाकी फोंस की जांच के बाद होगा |

हमरा सहयोग करे, कुछ दान करे , ताकी हम सचाई आपके सामने लाते रहे , आप हमरी न्यूज़ शेयर करके भी हमरा सहयोग कर सकते