डेटा चोरी की वजह से चीन के 59 एप्स बैन किये गए – तो चीन ने बैठक में अब क्या मुद्दा उठाया है?

59
Facebook
Twitter
Pinterest
WhatsApp
Tiktok का एक मात्र विकल App "99likes" डाउनलोड करे,जिसे आप वीडियो भी बना सकते है रे
Download 99likes

भारत के 59 चीनी एप्स पर प्रतिबंद लगाने के कुछ दिन बाद, चीन ने नई दिल्ली में हुई द्विपक्षीय बैठक में इस बैन पर मुद्दा उठाया है। 

सूत्रों द्वारा कहा गया है कि – 

“राजनयिक स्तर पर हुई बैठक में चीन ने इस बैन एप्स पर मुद्दा उठाया है।” सूत्रों से यह भी पता चला है कि भारत ने चीन को साफ़ तौर पर बता दिया है कि यह कार्य भारत और भारत के लोगो की सुरक्षा के हिट में किया गया था – भारत किसी भी देश वासी की जानकारी की सुरक्षा को दाव पर नहीं लगा सकता। 

भारत ने हाल ही में चीन की 59 एप्स पर प्रतिबंद लगाया था – जिसमे बहुत ही प्रसिद्द एप्स भी शामिल थे जैसे कि टिकटोक, Likee, वी चैट, और हेलो – क्योंकि यह एप्स भारत के लोगो की जानकारी को चोरी करते है जो भारत के लोगो की सुरक्षा पर खतरा है। 

ज्यादातर एप्स 29 जून को बैन कर दी गई थी केवल इसलिए क्यूंकि यह सारी एप्स भारत के लोगो का डेटा चुरा रही है और नज़र रख रही है हमारे भारत के लोगो पर। और उस चोरी किये हुए डेटा को वे बहार भेजते है गलत इस्तेमाल के लिए। यह बैन सेक्शन 69A के इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट 2009 के अनुसार किया गया है। बैन के पश्चात – चीनी मंत्रालय ने कहा था कि भारत के लोगो कि जानकारी को सुरक्षित रखना यह भारत का केवल कर्त्तव्य ही नहीं बल्कि अधिकार है। 

केवल डेटा चोरी ही नहीं – इन एप्स पर इलेक्शन के दौरान पक्षपाती प्रचार भी होता था। 

जी हाँ केवल डेटा चोरी ही नहीं बल्कि जिस पार्टी को चीन समर्थन करती है उसी के वीडियोस और जानकारी वायरल कर लोगो को दिखाई जाती थी। तो क्या यह सही है? 

इतना ही नहीं भारत के लोगो का लोकेशन भी track करते थे ये एप्स। 

और इतना ही नहीं इन चीनी एप्स डेटा चोरी और पक्षपाती प्रचार के अलावा भारत के लोगो पर नज़र भी रखे हुए है। तभी तो गुजरात के लोगो के डिवाइस पर गुजराती और हिंदी वीडियोस दिखाए जाते है और महाराष्ट्र में मराठी भाषा में भी वीडियोस दिखाई जाती है। इसका साफ़ मतलब है कि यह एप्स आपके डिवाइस द्वारा लोकेशन ट्रैक करते है। 

तो क्या अब इन एप्स पर भरोसा हो सकता है?

बिलकुल भी नहीं। इन चीनी एप्स पर अब भरोसा कैसे हो सकता है? यह एप्स हमेशा के लिए बंद हो जनि चाहिए। भारत के डेवेलपर्स भी ऐसी एप्स का आविष्कार कर ही सकते है। 

और तब डेटा भी सुरक्षित रहेगा – कोई पक्षपाती प्रचार नहीं होगा – केवल एंटरटेनमेंट के लिए रहेगा – और न ही आपका लोकेशन ट्रेस किया जाएगा। 

हमरा सहयोग करे, कुछ दान करे , ताकी हम सचाई आपके सामने लाते रहे , आप हमरी न्यूज़ शेयर करके भी हमरा सहयोग कर सकते